loader

मिट्टी के बर्तन पर्यावरण रक्षा की ओर बड़ा कदम

Foto

मेदिनीनगर : माटी निर्मित सामान का उपयोग करना पर्यावरण की रक्षा के लिए एक बड़ा कदम है। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड माटी कला बोर्ड का गठन कर प्रदेश के कुम्हारों को बहुत बड़ा तोहफा दिया है। यह बातें डाल्टनगंज के विधायक आलोक चौरसिया ने कही। वे स्थानीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर भवन में आयोजित झारखंड माटी कला बोर्ड के सेमिनार सह प्रदर्शनी कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। कहा कि माटी के बर्तनों में भोजन को पकाना उसमें खाना सेहत के लिए लाभप्रद है। माटी के बर्तन सभी को अपनाना चाहिए। मौके पर उपस्थित माटीकला बोर्ड के अध्यक्ष श्रीचंद प्रजापति ने कहा कि बोर्ड ने पलामू में सेमिनार सह प्रदर्शनी का पहली बार आयोजन किया गया है। कहा कि कुम्हारों की रोजी-रोटी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से झारखंड सरकार ने माटीकला बोर्ड का गठन किया गया है। पलामू में दो माह के भीतर प्रशिक्षण केंद्र स्थापित होकर काम करने लगेगा। कहा कि प्रशिक्षण लेने वाले शिल्पकारों को सार्टिफिकेट प्रदान किया जाएगा। प्रशिक्षण देने वाले को बोर्ड 15 हजार रुपये मासिक मानदेय प्रदान करेगा।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश