loader

अवैध शराब के चक्कर में जंगल खत्म कर रहे हैं तस्कर

Foto

हजारीबाग : कभी माआवोदियों की राजधानी के लिए प्रसिद्ध चौपारण के भगहर, अम्बातरी, परसातरी, वृंदा, पथरा, सहित डेढ़ दर्जन जंगलों में अवैध शराब की एक दो नहीं बल्कि सैकड़ों शराब की भट्ठियां जल रही है। इन भट्ठियों की आग कोयले से नहीं बल्कि जंगल के लकड़ियों से जलाई जा रही है। बेधड़क जंगल काट गाजर भूसे की तरह लकड़ियों का उपयोग शराब बनाने के लिए चूल्हे जलाने में किया जा रहा है। वन विभाग इन पर कार्रवाई तो दूर झांकने भी नहीं जाती। उत्पाद विभाग पहला ऐसा विभाग है, जिसने इन जंगली क्षेत्रों में केवल प्रवेश हीं नहीं किया बल्कि जेसीबी से इन तस्करों के सपनों को ढाहने का सफल प्रयास किया है। उत्पाद के छापे में पिछले दो माह में चार सौ से अधिक शराब की भट्ठियां को नष्ट कर करीब पांच ट्रैक्टर लकड़ियां भी जब्त की, हालांकि, उत्पाद विभाग इन लकड़ियों को अपने साथ हजारीबाग नहीं ला सकी। लेकिन जहां भी छापेमारी की गई बड़ी- बड़ी साल की लकड़ियां बड़ी संख्या में बरामद की गई।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश