loader

झारखंड का स्थापना दिवस : सुखविंदर संग झूमे संगीत के कद्रदान

Foto

रांची : मोरहाबादी के टाइम स्क्वायर का मिजाज शुक्रवार  को बदला-बदला सा नजर आ रहा था. रांची के युवा हों या बुजुर्ग सभी कुछ मिनटों के लिए ठहर कर फिल्मी गीतों का मजा लूट रहे थे. लूटते भी क्यों न, लोगों के सामने अपनी दमदार प्रस्तुति देने बॉलीवुड के स्टार सिंगर सुखविंदर सिंह पहुंचे थे.

 

मौका था झारखंड के 19वें स्थापना दिवस पर सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम का. सांस्कृतिक संध्या में सुखविंदर सिंह ने अपनी दमदार आवाज से सर्द शाम में लोगों के भीतर जोश भरने का काम किया. कर हर मैदान फतेह ओ बंदेया......, हौले-हौले हो जायेगा प्यार व झलेया...., चल छइयां-छइयां-छइयां.... समेत कई हिट गानों की उन्होंने प्रस्तुति दी. 

 

अपने लाइव कंसर्ट के दौरान सुखविंदर सिंह ने लोगों का जोश बनाये रखने के लिए राग-अालाप भी पेश किये. अपनी म्यूजिक टीम के कलाकारों के साथ मिलकर विभिन्न गानों के राग का आलाप और वाद्ययंत्रों की जुगलबंदी करायी. कभी ढोलक और ट्रिपलेट, तो कभी गिटार 

और परक्यूसन  के बीच की जुगलबंदी सुनते ही बन रही थी. उनकी इस तकनीक को लोगों ने खूब सराहा और जमकर हूटिंग की.

 

मेरे सभी गाने भगवान बिरसा मुंडा को समर्पित 

 

सुखविंदर सिंह ने अपनी प्रस्तुति से पहले टाइम स्क्वायर में मौजूद लोगों को स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी. उन्होंने बताया कि कार्यक्रम की शुरुआत मैं किसी और गाने से करना चाहता था, जबकि भगवान बिरसा मुंडा के परिचय ने मेरा मन बदल दिया है.  भगवान बिरसा मुंडा की शक्ति, संयम, निश्चय और प्रण से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए. उन्होंने कंसर्ट के सारे गाने भगवान बिरसा मुंडा को समर्पित   करते हुए पेश किये.सुखविंदर के टीम मे शामिल माधवी श्रीवास्तव ने भी कई गाने पेश किये.

 

चल चल रांची में होगी ढैन ढैन... 

 

जैसे-जैसे सुखविंदर ने अपने गानों की प्रस्तुति दी. सर्द रात की सर्दी की तरह लोगों का जोश भी बढ़ता गया. लोगों के जोश को दोगुना करने के लिए सुखविंदर दर्शकों के बीच घुस गये. उन्होंने रांचीवासियों के लिए चल-चल रांची में होगी ढैन-ढैन..... गाने की प्रस्तुति दी. इसके अलावा सुखविंदर ने बीड़ी जलइले जिगर से पिया..., मरजानी-मरजानी...., रे सुल्तान...., चम्मो कहां तू मुझे छोड़ के चली..... समेत अन्य कई गानों से लोगों की रात को जोशिला बनाया. 

 

आवा रे आवा रे झारखंड के सुखद बनाये... 

 

कार्यक्रम की शुरुआत पद्मश्री मुकुंद नायक व टीम की लोक गीत प्रस्तुति से हुई. झारखंडी पोशाक, ढोल - मांदर - बांसुरी और नगाड़ा के साथ मुकुंद नायक की टीम ने मंच पर धमाल मचाया. आवा रे आवा रे झारखंड के सुखद बनाये.... समेत अन्य कई लोक गीतों की प्रस्तुति दी.

 

हाइवे 69 का लव एंथम 

 

सांस्कृतिक संध्या की दूसरी प्रस्तुति रांची के मेटल बैंड हाइवे 69 ने दी. बैंड के एलवीन रोजारियो, साकेत, बनिकेत वर्म, सूर्या, आशीष ने मिलकर बॉलीवुड के हिट लव एंथम की प्रस्तुति दी. एलवीन ने लव एंथम में रांझर दे यार बुलेया..., बेखयाली में भी तेरा..., जब तक तूझे प्यार से भर न दूं... की भी प्रस्तुति दी. . माधवी के रेट्रो हिट्स आप जैसा कोई मेरी जिंदगी में आये..., जवानी जानेमन हसीन दिलरुबा..., झूम झूम झूम बाबा... पर लोग जमकर झूमे. 

 

 



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश