loader

उद्योग के नाम पर ली गयी 1738 एकड़ जमीन बिना काम के पड़ी

Foto

पटना : बिहार के औद्योगिक क्षेत्रों की कुल 6062  एकड़ भूमि में से 1738 एकड़ जमीन (28.67%)  आर्थिक  तौर पर अनुपयोगी बनी हुई है.  यह ऐसी जमीन है, जिसका  औद्योगिक  विकास  और रोजगार की दर से  रत्ती भर भी संबंध में नहीं है.

जमीनी सच्चाई  यह है कि औद्योगिक जमीन  को आवासीय भूखंड की भांति कब्जाया जा चुका है.  कानूनी पेच में फंसी इस औद्योगिक जमीन पर फिलहाल  न तो फैक्टरी चल रही है और न उन पर काबिज उद्यमियों की तरफ से  वहां नये सिरे से  उद्योग लगाने की कोई मंशा जाहिर की जा  रही है.  ऐसे हालात में अरबों के  निवेश अटके हुए हैं.   उदाहरण के लिए आइसीसी और पेप्सिकाे जैसी करीब दर्जन भर कंपनियों के अरबों के निवेश केवल जमीन के फेर में अटके हुए हैं.

कानूनी दांवपेच में फंसी औद्योगिक क्षेत्र की 28 फीसदी जमीन का बाजार मूल्य अरबों रुपये में है.  हालांकि, दशकों पहले यह जमीन  उद्योग लगाने के लिए कौडियों के दाम  ली गयी थी.  अब इस जमीन का बाजार मूल्य आसमान छू रहा है. यही वजह है कि लोग इस जमीन का मोह छोड़ नहीं पा रहे हैं.   

फिलहाल औद्योगिक क्षेत्रों के हालात ये हैं कि अगर कोई उद्यमी या स्टार्टअप पांच से 10 एकड़ जमीन भी चाहे तो बियाडा के पास इतनी इकट्ठी जमीन नहीं है. लिहाजा इच्छुक नव निवेशकों को समुचित जमीन नहीं मिल पा रही है. 

बियाडा के मुताबिक कहने को पटना, मुजफफरपुर, दरभंगा  और भागलपुर के सभी औद्योगिक क्षेत्रों में कुल 680 औद्योगिक भूखंड बनाये गये थे. इनमें 625 आवंटित हैं. केवल 55 खाली हैं. खाली प्लॉट भी इतने छोटे हैं कि ठीक-ठाक यूनिट खोली नहीं जा सकता है.  

जानकारी के मुताबिक  पटना के औद्योगिक क्षेत्रों में केवल 23, मुजफ्फरपुर में 16 , भागलपुर में तीन और दरभंगा के औद्योगिक इलाकों में केवल 13 औद्योगक प्लॉट खाली हैं. ये सभी औद्योगिक शेड्स पूरी तरह निर्मित हैं.

औद्योिगक क्षेत्र की जमीन (एकड़ में )

रीजनल आफिस लैंड एलॉट लैंड विवादित खाली लैंड 

  पटना 2550 2102 133 82

  मुजफ्फरपुर 1290 615 350 114

  भागलपुर 1347 403 827 41

  दरभंगा 875 273 427 118

नये औद्योगिक क्षेत्र को भी झटका, 1100 एकड़ जमीन का पजेशन नहीं ले सका बियाडा 

पटना : बियाडा ने प्रदेश में नये औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के लिए बेगूसराय और कहलगांव में करीब 1100 एकड़ जमीन ली थी. पैसा भी चुकाया है, लेकिन आज तक इस जमीन पर बियाडा को जमीन हासिल नहीं हो सकी. बाद में दोनों जगहों का मामला कोर्ट पहुंच गया. फिलहाल नया औद्योगिक क्षेत्र बसाया नहीं जा सका. बेगूसराय में 325.53 एकड़, कहलगांव में 781. 63 एकड़ और खरगा में चार एकड़ जमीन पर उद्योग विभाग पैसा चुकाने के बाद भी जमीन का अधिग्रहण नहीं कर सका है.

नये उद्योगों के लिए हमारे पास जमीन नहीं  बची है. ऐसे में नये  निवेशकों को जमीन नहीं दे पा रहे हैं. अच्छी-खासी एरिया में हमारी औद्योगिक जमीन कानूनी अड़चनों में फंसी हैं. हालांकि, हम औद्योगिक  जमीन हासिल करने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं. 

संतोष कुमार सिन्हा, कार्यकारी िनदेशक, बियाडा



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश