loader

पांच घंटे बाद भी नामकुम से अगवा बच्ची का सुराग नहीं, सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही पुलिस

Foto

रांची : झारखंड की राजधानी रांची में शनिवार की सुबह-सुबह एक बच्ची का अपहरण हो गया. स्कूल जा रही बच्ची को कुछ लोगों ने मारुति वैन में जबरन बिठा लिया और उसे अपने साथ ले गये. बच्ची के ही स्कूल की एक लड़की ने इसकी सूचना अपने परिवार वालों को दी. उसके परिवार वालों से ही संभवत: पुलिस को सूचना मिली. पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है.

झारखंड की दो बेटियों को न्याय दिलाने के लिए सड़क पर उतरा पिपरवार

बताया जा रहा है कि साइकिल से स्कूल जा रही एक बच्ची ने देखा कि पैदल जा रही एक लड़की को कुछ लोग मारुति वैन में जबरन उठाकर ले जा रहे हैं. यह बच्ची वहां से अपने घर लौट गयी और परिजनों को इसके बारे में सूचना दी. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि बच्ची किस स्कूल में पढ़ती है. यहां तक कि उसकी पहचान का भी पता नहीं चल पाया है. पुलिस सीसीटीवी फुटेज के सहारे बच्ची को बरामद करने की कोशिश कर रही है.

मामला राजधानी रांची के नामकुम थाना क्षेत्र का है. बताया जा रहा है कि एक बच्ची अपनी सहेली के साथ स्कूल जा रही थी. इसी दौरान रास्ते में एक मारुति वैन में सवार कुछ लोग आये. बच्ची को जबरन मारुति वैन में खींच लिया और वहां से भाग गये. अपहरण की यह घटना नामकुम के कालीनगर में हुई है. उसकी सहेली ने बताया कि अपहरण के समय बच्ची ने शोर भी मचाया, लेकिन कोई उसकी मदद के लिए आगे आ पाता, उसके पहले ही वैन लेकर बदमामश वहां से चंपत हो गये.

नक्सली रवींद्र गंझू के दस्ते ने लोहरदगा के बुलबुल जंगल में बिछा रखी थी IED, विस्फोट में ग्रामीण की मौत

सुबह करीब साढ़े छह बजे हुई इस घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस के वरीय अधिकारी पहुंचे. ग्रामीण एसपी स्वयं घटनास्थल पर पहुंचे. बच्ची की बरामदगी के लिए छापामारी जारी है. बच्ची के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है. दिन-दहाड़े राजधानी से एक स्कूली बच्ची के अपहरण से लोग सकते में हैं. पुलिस भी बेहद परेशान है. हालांकि, पुलिस कह रही है कि बच्ची को जल्द ही बरामद कर लिया जायेगा और अपराधी भी गिरफ्तार कर लिये जायेंगे.

संथाल परगना में मौसम ने करवट बदली, साहिबगंज में तेज बारिश से ठिठुरे लोग, किसानों के चेहरे खिले

अपहरण के पांच घंटे से ज्यादा बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस अब भी खाली हाथ है. यहां तक कि पुलिस यह भी पता नहीं कर पायी है कि बच्ची कौन है, कहां की रहने वाली है और किस स्कूल में पढ़ती है. ग्रामीण एसपी, डीएसपी, थाना प्रभारी समेत तमाम अधिकारी सीसीटीवी के भरोसे हैं. सबसे आश्चर्य की बात यह है कि जिस जगह से बच्ची का अपहरण हुआ है, वहां कई बड़े संस्थान हैं, लेकिन रास्ते में कहीं कोई सीसीटीवी नहीं लगा है.



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश