loader

झारखंड की दो बेटियों को न्याय दिलाने के लिए सड़क पर उतरा पिपरवार कोयलांचल

Foto

पिपरवार : झारखंड की दो नाबालिग बेटियों को न्याय दिलाने के लिए शुक्रवार को पूरा पिपरवार कोयलांचल सड़क पर उतर आया. लोगों ने अपने गुस्से का इजहार किया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. हजारों महिलाएं सड़क पर उतरीं और दो बेटियों को न्याय देने की मांग की. लोगों ने ‘पुलिस प्रशासन हाय हाय’, ‘हत्यारों को फांसी दो’, ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगाये.

लोगों का गुस्सा इस कदर फूटा है कि पूरा कोयलांचल स्वत:स्फूर्त बंद हो गया है. चारों ओर से लोग पिपरवार पहुंच रहे हैं और दोषी को जनता के हवाले करने की मांग कर रहे हैं. एहतियात के तौर पर पुलिस गिरफ्तार आरोपियों को पिपरवार से बाहर ले जाकर पूछताछ कर रही है. लोगों ने थाना को घेर रखा है. थाना के बाहर अर्द्धसैनिक बल की टुकड़ी को तैनात कर दिया गया है.

उधर, बचरा खेल मैदान में जुटी भीड़ दोषी को फांसी देने की मांग कर रही है. उसे जनता के हवाले करने की मांग कर रही है. लोग कह रहे हैं कि बच्चियों की हत्या करने वालों को वे खुद सजा देंगे. आरोपियों को उनके हवाले कर दिया जाये. माहौल तनावपूर्ण है. लेकिन, पुलिस का कहना है कि हालात नियंत्रण में हैं.

डकरा में लोग नारेबाजी कर रहे हैं. केडी बाजार बंद हो गया है. दुकानदारों ने आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग करते हुए अपनी दुकानें बंद कर दी हैं. सुबह में खलारी से एक विशाल रैली निकली. रैली जहां-जहां से गुजरी, उस इलाके के लोग रैली में शामिल होते गये. भारी भीड़ बचरा पहुंची.

आक्रोशित लोगों ने सभी दुकानें, बाजार, व्यापारिक प्रतिष्ठान, कोयला ढुलाई बंद करा दी. पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी हो रही है. लोग डीसी, एसपी को मैदान में बुलाने की मांग कर रहे हैं. प्रदर्शन को शांत करने के लिए प्रशासन की ओर से अब तक कोई पहल नहीं हुई है. अब तक यह आंदोलन शांतिपूर्वक चल रहा है. प्रशासन को ज्ञापन सौंपने की भी तैयारी हो रही है.

लोगों के गुस्से का आलम यह है कि खलारी, केडी, डकरा, चूरी, राय और बचरा की सभी दुकानें बंद हो गयी हैं. सब्जी मंडी से लेकर चाय-पान की दुकान और क्षेत्र के तमाम होटल में ताले लटके हैं.

दरअसल, चतरा जिला में पिपरवार थाना क्षेत्र की टीएमएच कॉलोनी की दो बच्चियां अपने भाई के साथ लकड़ी चुनने जंगल में गयीं थीं. तीनों बच्चे दिन भर लापता रहे. गुरुवार सुबह जंगल में ग्रामीणों ने एक घायल बच्चे को देखा. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. होश में आने पर बच्चे ने तीन लोगों के नाम बताये. उसके बयान के आधार पर पुलिस ने उन तीनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया.

आरोपियों की निशानदेही पर जंगल से एक 12 वर्षीय बच्ची का शव बरामद किया गया. 10 साल की दूसरी बच्ची गंभीर रूप से घायल अवस्था में मिली. उसे इलाज के लिए रिम्स रेफर कर दिया गया. लेकिन, रांची ले जाने के क्रम में दूसरी बच्ची ने भी रास्ते में ही दम तोड़ दिया.

बच्चियों की मौत से आक्रोशित लोग गुरुवार को ही पिपरवार थाना पहुंच गये. आरोपियों को उनके हवाले करने की मांग करने लगे. मामला बिगड़ता देख आइटीबीपी के जवानों ने लाठीचार्ज कर दिया. इससे लोगों का गुस्सा और भड़क उठा. उन्होंने पुलिस की बस के शीशे तोड़ दिये. बाजार बंद करा दिये. कोयले की ढुलाई भी बंद करवा दी.

देर रात तक पुलिस-पब्लिक आमने-सामने थी. लोगों ने आशंका व्यक्त की है कि दुष्कर्म के बाद बच्चियों की हत्या की गयी है. पुलिस कह रही है कि पूछताछ में आरोपियों ने बताया है कि बच्चियों के साथ वे जंगल में खेलने  गये थे. विवाद हुआ, तो उन्होंने तीनों को बुरी तरह से पीट दिया. आरोपियों ने यह भी कहा कि उन्होंने किसी के साथ दुष्कर्म नहीं किया. पुलिस ने बच्चियों की मेडिकल रिपोर्ट मंगवायी है.



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश