loader

एक चुटकी हींग दिलाएगी पेट से लेकर कान दर्द तक में आराम

Foto

हींग का नाम आते ही तड़के वाली दाल या तो चाट और गोलगप्पों के पानी की याद आ जाती है। हींग हमेशा से ही खाने काे स्वाद को बढ़ाने का काम करता आया है लेकिन कुछ लोगों को इसकी तेज गंध नहीं सुहाती। इसे संस्कृत में 'हिंगु' कहा जाता है। जुकाम, सर्दी, अपच के अलावा अन्य बीमारियों के लिए भी यह एक अचूक औषधि है। इसके अलावा भी इसके बहुत से फायदे हैं। पेट दर्द से छुटकारा काफी समय पहले से हींग का इस्तेमाल पेट की समस्या के लिए किया जाता रहा है। हींग में एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों का भंडार होता है। पेट में कीड़े पड़ जाने पर, एसिडिटी, पेट खराब हो जाने पर हींग का सेवन काफी लाभदायक होता है। सिर दर्द में आराम सर्दी-जुकाम, तनाव और माइग्रेन के कारण होने वाले सिरदर्द में हींग के प्रयोग से आराम मिल जाता है। हींग में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं इसलिए ये सिर की रक्त वाहिकाओं की सूजन को कम करती है, जिससे दर्द में राहत मिलती है। प्रति वर्ष कोरोना से उबरे मरीजों पर सीटी स्कैन की मदद से विस्तृत विश्लेषण किया जाएगा। Coronavirus Side-Effects: कोरोना से उबरने के बाद इन साइड-इफेक्ट्स से जूझते हैं 10 में से 9 रोगी! यह भी पढ़ें ब्लड प्रेशर को करता है कंट्रोल हींग में कोउमारिन नाम का पदार्थ पाया जाता है। यह खून को जमने से रोकता ही है साथ ही साथ खून को पतला भी करता है। इससे ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। कान दर्द में फायदेमंद हींग में एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटी-बायोटिक गुण होते हैं। हींग के प्रयोग से आप कान दर्द में भी राहत पा सकते हैं। इसके लिए एक छोटी कटोरी या पैन में दो चम्मच नारियल का तेल गर्म करें। गर्म होने पर इसमें एक चुटकी हींग मिला दें और आंच से उतारकर गुनगुना होने के लिेए रख दें। सहने लायक गुनगुना हो जाने पर ड्रॉपर की सहायता से या किसी अन्य तरह से कान में ये तेल डालें। इससे कुछ मिनट में ही आपको कान दर्द से राहत मिल जाएगी। Safi सालों से रक्त शोधन, स्किन और पेट के रोगियों के लिए वैद्य बना हुआ है। Safi सिरप से जुड़ी कुछ गलतफहमियां यह भी पढ़ें स्किन इंफेक्शन में लाभकारी दाद, खाज, खुजली जैसे चर्म रोगों के लिए हींग बहुत फायदेमंद है। चर्म रोग होने पर हींग को पानी में घिसकर लगाने से फायदा होता है। हींग की प्रवृत्ति गर्म होती है इसलिए इसका अधिक सेवन नहीं करना चाहिए। थोड़ी मात्रा में तड़के के रूप में या सलाद के मसाले आदि में आप इसका सेवन नियमित रूप से कर सकते हैं।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश