loader

यहां है भोलेनाथ का अद्भुत पारदर्शी शिवलिंग, अंग्रेजों ने खरीदने की जताई थी इच्छा

Foto

कोडरमा: भगवान भोले के अनेक रूपों के साथ अनेकों नाम से आप वाकिफ होंगे। लेकिन कोडरमा जिले के डोमचांच प्रखंड के मसनोडीह में भगवान भोलेनाथ शंकर का एक अद्भुत शिवलिंग है। यहां का शिवलिंग पूरी तरह से ठोस पत्थर का होने के बावजूद पारदर्शी है। भगवान भोले के पारदर्शी स्वरूप को लोग यहां भगवान निरंजन नाथ के रूप में पूजते हैं। सन 1850 में वर्तमान बिहार के नवादा जिला अंतर्गत बारतगढ़ इस्टेट के जमींदार धर्म नारायण सिंह के द्वारा इस शिवलिंग को स्थापित किया गया था। पारदर्शी शिवलिंग होने की विशेषता के कारण ही यह मंदिर काफी विख्यात है। लोग इसे स्फटिक का पत्थर भी बताते हैं। मसनोडीह निवासी दीपक सिंह बताते हैं कि उनके पूर्वज धर्म नारायण सिंह को डेढ़ दशक पहले भगवान भोले स्वप्न में दिखाई दिए थे और मसनोडीह से थोड़ी दूर चंचाल पहाड़ी क्षेत्र में होने की बात उन्हें स्वप्न में बताई थी।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश