loader

ग्राहकों से रिश्ते की बुनियाद पर खड़ी की छोटी दुकान पर बड़ा शोरूम, अजय इलेक्ट्रॉनिक अब धनबाद का एक ब्रांड

Foto

धनबाद: हर पिता की इच्छा होती है कि बच्चों का भविष्य संवारने के लिए उन्हें कुछ देकर जाएं। अब यह बच्चों का भी कत्र्तव्य है कि पिता की विरासत को और समृद्ध बनाएं। हीरापुर, पार्क मार्केट के व्यवसायी अजय चौरसिया भी उनमें शामिल हैं, जिन्होंने अपने पिता की विरासत को समृद्ध किया। जब वह सिर्फ 18 साल के थे, तब पिता बीपी चौरसिया ने पार्क मार्केट में एक छोटी सी दुकान उन्हें उपहार में दी थी। उस वक्त दुकान में छोटी-मोटी इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं ही थीं। उपहार पिता का था इसलिए नाम भी बेटे के नाम पर अजय इलेक्ट्रॉनिक रखा गया। अजय चौरसिया ने इस छोटी सी दुकान को ही अपनी मेहनत और व्यवहार से शहर का नामचीन शोरूम बना दिया। देखते ही देखते लोगों की जुबान पर इसका नाम चढ़ गया। इलेक्ट्रॉनिक आइटम की खरीदारी के लिए इस दुकान में भीड़ लगने लगी। त्योहारों के मौके पर तो पहले से सामान बुक कराने की स्थिति बनने लगी। ग्राहकों से बनाया दिल का रिश्ता 1982 में शुरू हुआ कारोबार का सफर शहर के बड़े कारोबारी के रूप में पहचान बना चुके अजय चौरसिया के शोरूम में आज भी वैसे ग्राहक और उनके स्वजन पहुंचते हैं, जिन्होंने 1982 में उनकी दुकान से सामान खरीदना शुरू किया था। अजय बताते हैं कि उन्होंने अपने ग्राहकों को सिर्फ सामान ही नहीं बेचा, बल्कि उनसे ऐसा रिश्ता बनाया जो उन्हें बार-बार खींच लाता है। अमूमन कारोबारी सामान बेचकर ग्राहक को भूल जाते हैं। इस शोरूम में आनेवाले ग्राहक सामान न भी लेना हो तो भी मिलने जरूर आते हैं। ग्राहकों का भरोसा कायम रखकर ही आज घर-घर इस शोरूम से इलेक्ट्रानिक आइटम पहुंच चुके हैं।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश