loader

हरकतों से बाज नहीं आ रहा चीन, ड्रैगन की सेना ने एलएसी पर उत्तराखंड में बाड़ाहोती के सामने बढ़ाई गतिविधि

Foto

चीन की आक्रामक गतिविधियों के कारण अपने पड़ोसियों के लिए खतरा बना हुआ है। पिछले साल से लद्दाख में भारत के साथ सैन्य गतिरोध में लगी चीनी सेना ने उत्तराखंड के बाड़ाहोती क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ अपनी गतिविधियों को बढ़ा दिया है क्योंकि हाल में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की एक प्लाटून को सक्रिय देखा गया था। चीन की प्‍लाटून ने किया निरीक्षणसूत्रों ने बताया कि हाल ही में पीएलए की एक प्लाटून (लगभग 35 सैनिकों) को उत्तराखंड के बाड़ाहोती इलाके के आसपास काम करते हुए देखा गया और आसपास के इलाके का सर्वेक्षण किया था। चीनियों को एक काफी दिनों के बाद इस क्षेत्र के आसपास कुछ गतिविधि करते देखा गया है। चीनी सैनिकों के वहां रहने के दौरान इलाके में लगातार नजर रखी जा रही थी। सूत्रों ने कहा कि भारतीय पक्ष ने भी इलाके में पर्याप्त इंतजाम किए हैं। एक हवाई अड्डे पर भी चीनी गतिविधियां तेज सूत्रों ने कहा कि सुरक्षा प्रतिष्ठान को लग रहा है कि चीनी इस क्षेत्र में कुछ गतिविधि का प्रयास कर सकते हैं, लेकिन भारतीय ऑपरेशन की तैयारी पूरे केंद्रीय क्षेत्र में अधिक है। उन्होंने कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और केंद्रीय सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वाई डिमरी ने भी हाल के दिनों में चीन के साथ केंद्रीय क्षेत्र की सीमा का दौरा किया और वहां की स्थिति और ऑपरेशन की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि बाराहोटी इलाके के पास एक हवाई अड्डे पर चीनी गतिविधियां भी तेज हो गई हैं और वहां उनके द्वारा बड़ी संख्या में ड्रोन तैनात किए गए हैं। सूत्रों ने कहा कि भारत ने केंद्रीय क्षेत्र में अतिरिक्त सैनिक तैनात किए हैं और कई रियर फॉर्मेशन वहां आगे बढ़े हैं। भारतीय वायु सेना ने वहां कुछ हवाई अड्डों को भी सक्रिय कर दिया है, जिसमें चिन्यालीसौंड उन्नत लैंडिंग ग्राउंड भी शामिल है, जहां एएन-32 लगातार लैंडिंग कर रहे हैं। चिनूक हैवी लिफ्ट हेलीकॉप्टर भी उस क्षेत्र में काम कर रहे हैं। जब भी आवश्यक हो, अंतर-घाटी सेना स्थानान्तरण कर सकते हैं।



Comments







बॉयोस्कोप

सिटी

प्रदेश